Hindi

अँधा था मैं

पर शायद अँधा था मैं
आखों से नहीं बल्कि दिल से

मैं देख नहीं पाया
तुम्हारा झूट जो छिपा था
तुम्हारे हर सच के पीछे

Hindi

महफिले

छत पर बैठकर जो सस्ते समोसे खाये थे तुम्हारे साथ,
आजकल इन मेहेंगी महफिलों में उनकी महक तलाशता हु.

Hindi

लफ्जों

लफ्जों का काम है दिल को जुबां तक लाना.
फिर क्या फर्क पड़ता है,
की लफ्जों ने हिंदुस्तानी धोती पहनी है या विलायती कोट.

Hindi

डायरी

पुरानी चीज़ों मे तुम्हारी डायरी मिली मुझे आज
सोचा खोल दूँ और पढ़ लूँ तुम्हारे सारे राज़
पर मैं तहर ज़िद्दी
मुझे गुमान इतना अपनी दिल-नवाज़ी पर
वह डायरी क्या अलग बताती मुझे जो
तुम्हारी आखों मे मैं नहीं पढ़ सकता था

Hindi, Poems, WriteUps

दस्तूर

उस सड़क पर फिर चल पड़े?
जो इस दुनिया की कम, हमारी ज़्यादा थी.
जहाँ रात बिन दरवाज़ा ठक-ठकाए आ जाती।
और सुबह बेनिक़ाब चली जाती थी.
ये कैसा दस्तूर है इस दुनिया का?
होठों पे हंसी आती नहीं है और
माथे पर शिकन घर बना जाती है.